50 से अधिक चाइनीज़ मोबाइल ऐप बंद किये गये

सोशल मीडिया

  • 50 से अधिक चाइनीज़ मोबाइल ऐप प्रतिबंधित
  • मोदी सरकार ने डेटा चोरी होने की सूचना के बाद लिया निर्णय
  • TikTok, ShareIT, UC Browser जैसी मोबाइल ऐप शामिल
TikTok banned in India

सीमा पर चलते तनाव, आर्थिक रस्साकशी, और बढती रक्षा तैयारियों के बीच भारत सरकार ने आज चीन में बने 50 से अधिक मोबाइल ऐप को प्रतिबंधित कर दिया। शीघ्र ही यह ऐप भारत में गूगले के प्ले स्टोर पर दिखाई देने बंद हो जायेंगे।

इन ऐप में TikTok, ShareIT, UC Browser जैसे ऐप भी शामिल हैं। इनको हटाये जाने का निर्णय इनका चीन में बना होना नही बल्कि राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लिया गया है। पहले भी यह सूचना दी गयी थी कि इनमें से कई ऐप उपयोग करने वाले का डेटा चुराते हैं, और उसका गलत इस्तेमाल करने की बात भी कही जा रही थी।

अधिकृत सूचना के अनुसार कहा गया है कि इन ऐप के द्वारा उपयोगकर्ता का डेटा चोरी करने तथा उसे भारत से बाहर के गलत तरह के सर्वर (मुख्य कंप्यूटर) में रखने की बात सामने आयी थी, जिससे भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा हो सकता है।

इन ऐप को प्रतिबंधित करने से अब यह देश के नागरिकों का डेटा नही चुरा सकेंगी, और ना ही उसका गलत उपयोग किया जा सकेगा। कम्प्यूटर से जुड़े खतरों से आगाह करने वाले संस्था CERT (Computer Emergency Response Team) के द्वारा कहा गया है कि कई ऐप में उपयोगकर्ता की निजी जानकारी को चुराने के मामले मिले हैं। गृहमंत्रालय की ओर से भी अनेकों ऐप्स को प्रतिबंधित करने को कहा गया था।

पिछले कुछ सप्ताह से भारत और चीन के बीच तनाव बढता जा रहा है, जिसको देखते हुए भारत में चीन निर्मित वस्तुओं के बहिष्कार का वातावरण बन रहा है, सामान्य जनता, उद्योग, राजनैतिक व सामाजिक संगठनों द्वारा चीनी सामान के बहिष्कार के लिये निरंतर अपीलें की जा रही हैं, जिसे सामान्य नागरिकों का समर्थन भी मिल रहा है। चीन के लिये भारत एक बड़ा बाजार है, और ऐसे में चीन के लिये भारत से शत्रुता मोल लेना उसको और अधिक हानि पहुंचायेगा। ऐसे में भारत सरकार का यह कदम चीन के मोबाइल सॉफ्ट्वेयर उद्योग को एक बड़ा झटका है, क्योंकि इन ऐप का उपयोग करने में एक बड़ी संख्या भारतीयों की है, जो इस प्रतिबंध के बाद चीन के ऐप का उपयोग करना बंद कर देंगे।


सोशल मीडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *