अगस्टा घोटालाः ₹432 करोड़ रिश्वत देने के प्रमाण सीबीआई को मिले।


सीबीआई को अगस्टा वेस्टलैंड घोटाले में वह प्रमाण मिले हैं जिनसे पता चलता है कि अगस्टा कंपनी ने क्रिश्चन मिशेल और हश्के को कुल 58 मिलियन पाउंड दिये थे, जिसमे से 54 मिलियन पाउंड की राशि भारत में किसी को देने के लिये दी गयी थी। भारत में जिन लोगों ने यह रिश्वत ली थी, सीबीआई अब उन तक पहुंचने के करीब है।

सीबीआई द्वारा की जा रही जांच में यह सामने आ रहा है कि क्रिश्चन मिशेल और हश्के ने मई 8, 2011 को दुबई में एक एग्रीमेंट बनाया था, इस एग्रीमेंट में 58 मिलियन पाउंड की राशि के बारे में बताया ग्याअ था। इस मीटिंग का उद्देश्य दोनो ओर के बिचौलियों के बीच में धनराशि के बंटवारे को लेकर समझौता कराना था। यह मीटिंग मिशेल की टीम और हश्के, कार्लो गेरोसा और त्यागी भाईयों के बीच हुई थी।

दरअसल दोनो पक्षों के बिचौलियों में धनराशि को लेकर विवाद हो गया था। हश्के को लगता था कि मिशेल ने 42 मिलियन पाउंड अपने लिये रखे हैं और उनके लिये सिर्फ 30 मिलियन पाउंड ही हैं। अंत में तय हुआ कि मिशेल को 30 मिलियन पाउंड दिये जायेंगे, और हश्के तथा बाकियों के बीच में 28 मिलियन पाउंड का बंटवारा होगा।

इस पूरे कांड में वायुसेना के पूर्व प्रमुख एसपी त्यागी और उनके परिवार को 10.5 मिलियन पाउंड मिलने थे, जिसमे से 3 मिलियन पाउंड की धनराशि अदा की गयी थी।

इस घोटाले में सोनिया गांधी और उनके परिवार के लोगों का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है, बोफोर्स और अन्य हथियार खरीद घोटालों की तरह इस घोटाले में भी कांग्रेस प्रमुख के परिवार का नाम आने पर कांग्रेस की समस्या बढती जा रही है। इस बार कांग्रेस सत्ता में भी नही है, इसलिये उनके लिये जांच को प्रभावित करने की संभावना भी कम है।


प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *